Category: Umeed Shayari

हिंदी भाषा में शेर ओ शायरी – यूँ तो हर शाम उम्मीदों में

यूँ तो हर शाम उम्मीदों में गुज़र जाती थी।।
आज कुछ बात है जो शाम पे रोना आया।।
ऐ मोहब्बत तेरे अंजाम पे रोना आया।
जाने क्यों आज तेरे नाम पे रोना आया।

हिंदी शेर ओ शायरी – बैठें तो किस उम्मीद पर बैठे

बैठें तो किस उम्मीद पर बैठे रहें यहाँ,
उठें तो उठ के जायें कहाँ तेरे दर से हम


loading...

Sher O Shayari 4 Lines – उसकी प्यारी मुस्कान होश उड़ा देती

उसकी प्यारी मुस्कान होश उड़ा देती हैं,
उसकी आँखें हमें दुनिया भुला देती हैं,
आएगी आज भी वो सपने मैं यारो,
बस यही उम्मीद हमें रोज़ सुला देती हैं..