Chand Shayari – ये चाँद चमकना छोड़ भी दे

ये चाँद चमकना छोड़ भी दे, तेरी चांदनी मुझे सताती है,
तेरे जैसा ही था उसका चेहरा, तुझे देख के वो याद आती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…