Dar Shayari – डर मुझे भी लगा फांसला

डर मुझे भी लगा फांसला देख कर,
पर मैं बढ़ता गया रास्ता देख कर,
खुद ब खुद मेरे नज़दीक आती गई,
मेरी मंज़िल मेरा हौंसला देख कर ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…