December Shayari – आओ कुछ देर दिसम्बर की

आओ कुछ देर दिसम्बर की धुप में बैठें,
ये फ़ुरसतें हमें शायद ना अगले साल मिलें…!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…