December Shayari – दिसम्बर जब से आया है

दिसम्बर जब से आया है मेरे खामोश कमरे में,
मेरे बिस्टेर पे बिखरी सब किताबें भीग जाती हैं..!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…