December Shayari – मुझ से पूछो कभी तकमील

मुझ से पूछो कभी तकमील न होने की चुभन
मुझ पे बीते हैं कई साल दिसम्बर के बग़ैर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…