Didaar Shayari – कि एक बार आज फिर

कि एक बार आज फिर खुदखुशी की हमने,
कि तेरी गली से निकले और तेरा दीदार हो गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…