Didaar Shayari – तुम्हारा दीदार और वो भी

तुम्हारा दीदार और वो भी आंखो में आंखे डालकर,,
सुनो ये कशिश कलम से बयान करना मेरे बस की बात नही…!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…