Dillagi Shayari – किसी ने दिल्लगी जाना मगर हमारा

किसी ने दिल्लगी जाना,मगर हमारा दिल
ख़ुदा का घर था,मुसाफ़िर क़ियाम रखते थे.!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…