Dillagi Shayari – बढ़ा के प्यास मेरी उसने

बढ़ा के प्यास मेरी उसने हाथ छोड़ दिया,
वो कर रहा था मुरव्वत भी दिल्लगी की तरह।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…