Dushman Shayari – कम्बखत दिल पर चोट खाने

कम्बखत दिल पर चोट खाने की आदत सी पड़ गयी है,
वरना हम भला क्यों दुश्मनों से मिलने लगे..!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…