Ehsaan Shayari – कैसे चुकाऊं किश्तें ख्वाहिशों की

कैसे चुकाऊं किश्तें ख्वाहिशों की ..
मुझ पर तो ज़रुरतों का भी एहसान चढा हुआ है ..!!

2 Comments

Add a Comment
  1. Shayari

    1. Yehsaan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…