Ehsaas Shayari – एहसास-ए-मुहब्बत के लिए बस इतना

एहसास-ए-मुहब्बत के लिए बस इतना ही काफी है,
तेरे बगैर भी हम, तेरे ही रहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…