Ehsaas Shayari – जागना भी कबूल है तेरी

जागना भी कबूल है तेरी यादों में रात भर,
तेरे एहसासों में जो सुकून है वो नींद में कहाँ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…