Ehsaas Shayari – ये मत पूछ के एहसास

ये मत पूछ के एहसास की शिद्दत क्या थी,
धूप ऐसी थी के साए को भी जलते देखा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…