Faasla Shayari – चाँद से नजदीकियां बढ़ने लगी

चाँद से नजदीकियां बढ़ने लगी है,
आदमी में फासला था, फासला है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…