Faasla Shayari – ठुकराया हमने भी बहुतों को

ठुकराया हमने भी बहुतों को है,,तेरी खातिर..
तुझसे फासला भी शायद, उन की बद-दुआओं का असर है…!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…