Fitrat Shayari – दिल है कदमों पे किसी

दिल है कदमों पे किसी के सर झुका हो या न हो,
बंदगी तो अपनी फ़ितरत है, ख़ुदा हो या न हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…