Fitrat Shayari – नहीं चाहिए वो जो मेरी

नहीं चाहिए वो जो मेरी किस्मत में नहीं ,
भीख मांग कर जीना मेरी फितरत में नहीं..!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…