Fitrat Shayari – मैं आईना हूँ टूटना मेरी

मैं आईना हूँ टूटना मेरी फितरत है,
इसलिए पत्थरों से मुझे कोई गिला नहीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…