Gair Shayari – कुछ हार गई तकदीर कुछ

कुछ हार गई तकदीर, कुछ टूट गये सपने,
कुछ गैरों ने किया बरबाद कुछ भूल गये अपने।…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…