Gair Shayari – कैसे करू भरोसा गैरों के

कैसे करू भरोसा गैरों के प्यार पर,
अपने ही मजा लेते हैं अपनों की हार पर..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…