Gunaah Shayari – इक फ़ुर्सत-ए-गुनाह मिली वो भी

इक फ़ुर्सत-ए-गुनाह मिली वो भी चार दिन
देखे हैं हम ने हौसले पर्वरदिगार के

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…