Gunaah Shayari – मिरे गुनाह ज़ियादा हैं या

मिरे गुनाह ज़ियादा हैं या तिरी रहमत
करीम तू ही बता दे हिसाब कर के मुझे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…