Gunaah Shayari – मैं रोज गुनाह करता हूँ

मैं रोज गुनाह करता हूँ वो रोज बख्श देता है,
मैं आदत से मजबूर हूँ वो रहमत से मशहूर है…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…