Gunaah Shayari – याद आए हैं उफ़ गुनह

याद आए हैं उफ़ गुनह क्या क्या
हाथ उठाए हैं जब दुआ के लिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…