Gunaah Shayari – वो कौन हैं जिन्हें तौबा

वो कौन हैं जिन्हें तौबा की मिल गई फ़ुर्सत
हमें गुनाह भी करने को ज़िंदगी कम है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…