Hichki Shayari – आज क्यों हिचकियां आईं दिले-नाशाद

आज क्यों हिचकियां आईं दिले-नाशाद मुझे
शायद उस शोख़ ने भूले से किया याद मुझे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *