Hichki Shayari – ये जालिम हिचकियाँ थमती क्यूँ

ये जालिम हिचकियाँ थमती क्यूँ नहीं आखिर,
किसके जहन में आकर यू थम सा गया हूँ मैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…