Hindi Poetry 2 Lines – कोई अपना हमसे जब भी रूठ

कोई अपना हमसे जब भी रूठ जाता है,
ऐसा लगता साथ रब का छूट जाता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *