Hindi Sad Shayari – ज़रा तो शर्म करती तू

ज़रा तो शर्म करती तू मुहब्ब्त चुप चुप

के और नफरत सरे आम..

loading…