Ibadat Shayari – तेरे बग़ैर इश्क़ हो तो

तेरे बग़ैर इश्क़ हो तो कैसे हो
इबादत के लिए ख़ुदा भी तो ज़रूरी होता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *