Imtehaan Shayari – और कितने इम्तेहान लेगा वक़्त

और कितने इम्तेहान लेगा वक़्त तू
ज़िन्दगी मेरी है फिर मर्ज़ी तेरी क्यों

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…