Inkaar Shayari – इंकार जैसी लज्जत इक़रार में

इंकार जैसी लज्जत इक़रार में कहां..
बढ़ता रहा इश्क ग़ालिब, उसकी नही-नही से..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…