Inkaar Shayari – उन मस्त निगाहों ने ख़ुद

उन मस्त निगाहों ने ख़ुद अपना भरम खोला
इंकार के पर्दे में इक़रार नज़र आए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…