Inspirational Shayari – तुम शराफ़त को बाज़ार में क्यूँ

तुम शराफ़त को बाज़ार में क्यूँ ले आए हो…
दोस्त
ये सिक्का तो बरसों से नहीं चलता…!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…