Intezaar Shayari – ख्वाहिशों का महल तो कब

ख्वाहिशों का महल तो कब का टूट चुका,
इंतज़ार है तो बस अब साँसों के टूटने का…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *