Intezaar Shayari – सुनो… ये बेबसी ये कश्मकश तुम्हारा इंतज़ार अजीब है

सुनो…
ये बेबसी,
ये कश्मकश,
तुम्हारा इंतज़ार,
अजीब है पर मीठा है ..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…