Jaagna Shayari – किस क़दर हिज्र में बेहोशी

किस क़दर हिज्र में बेहोशी है
जागना भी है हमारा सोना

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…