Jaan Shayari – ख़ाक थी और जिस्मों-जान कहते

ख़ाक थी और जिस्मों-जान कहते रहे।
चंद ईंटों को ही मकान कहते रहे।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…