Jaan Shayari – चाहत तेरी पहचान है मेरी; मोहब्बत

चाहत तेरी पहचान है मेरी;
मोहब्बत तेरी शान है मेरी;
हो के जुदा तुझसे क्या रह पाउँगा;
तू तो आखिर जान है मेरी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…