Jaan Shayari – मैं आरज़ू-ए-जाँ लिखूं या जान-ए-आरज़ू! तू

मैं आरज़ू-ए-जाँ लिखूं या जान-ए-आरज़ू!
तू ही बता दे नाज़ से ईमान-ए-आरज़ू!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…