Jaan Shayari – सिलसिला चाहत का दोनो ही

सिलसिला चाहत का दोनो ही तरफ जारी था…
वो हमारी जान चाहते थे और हम जान से ज्यादा उन्हे..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…