Jawaab Shayari – उलझते जाते है तेरे हर

उलझते जाते है तेरे हर सवाल से ए ज़िन्दगी,
क्यों तुझे ज़वाबों से इतना लगाव सा है।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…