Jawaab Shayari – कहाँ से लाऊ हुनर उसे

कहाँ से लाऊ हुनर उसे मनाने का;
कोई जवाब नहीं था उसके रूठ जाने का;
मोहब्बत में सजा मुझे ही मिलनी थी;
क्यूंकी जुर्म मैंने किया था उससे दिल लगाने का।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…