Jazbaat Shayari – बात तो सिर्फ जज़्बातों की

बात तो सिर्फ जज़्बातों की है वरना,
मोहब्बत तो सात फेरों के बाद भी नहीं होती

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…