Junoon Shayari – अब के जुनून मैं फासला

अब के जुनून मैं फासला शायद न कुछ रहे
दामन के चाक और गिरेबां के चाक में

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…