Junoon Shayari – फ़ना न कर अपनी ज़िन्दगी

फ़ना न कर अपनी ज़िन्दगी को ऐ इंसान राह -ऐ -जूनून में
तब करेगा इबादत जब गुनाह करने की ताक़त न होगी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…