Justaju Shayari – नहीं निगाह मे मंज़िल तो

नहीं निगाह मे मंज़िल तो जुस्तजू ही सही
नहीं विसाल मयस्सर तो आरज़ू ही सही |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…