Justaju Shayari – हूँ चल रहा उस राह

हूँ चल रहा उस राह पर जिसकी कोई मंज़िल नहीं
है जुस्तजू उस शख़्स की जो कभी हासिल नहीं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…